देश की राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा में 10 किलोमीटर लंबे ट्रैफिक जाम में एक एंबुलेंस फंस गई, इस जाम के दौरान सही समय पर इलाज नही मिलने के कारण 7 साल के बच्चे ने एंबुलेंस में ही दम तोड़ दिया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नोएडा और ग्रेटर नोए़डा को जोड़ने वाले एक्सप्रेसवे पर शनिवार (20 मई) को जेपी बिल्डर्स के खरीददारों में धरना प्रदर्शन कर रहे थे। जिससे सड़क पर करीब 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया, जाम में फंसी एक एंबुलेंस में सही वक्त पर इलाज न मिलने से एक बच्चे की मौत हो गई। बच्चे को आगरा से उसके घरवाले दिल्ली ले जा रहे थे।

मरीज के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने वक्त रहते जाम से एंबुलेंस निकलवाने की कोशिश नहीं की और उनकी बच्चे को इलाज के लिए अस्पताल नहीं ले जाया सका, जिसकी वजह से बच्चे ने एम्बुलेंस में ही दम तोड़ दिया।

पुलिस के मुताबिक, शनिवार शाम 4 बजे जेपी बिल्डर के सेक्टर-128 स्थित ऑफिस में खरीदार अपनी मांगों को लेकर मीटिंग करने पहुंचे थे, लेकिन बिल्डर की तरफ से कोई मिलने को तैयार नहीं हुआ। इसके बाद गुस्साए खरीददारों ने पहले सर्विस लेन और फिर एक्सप्रेसवे पर प्रदर्शन शुरू कर दिया।

इससे ग्रेटर नोएडा से नोएडा की तरफ जाने वाले रास्ते पर कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया। इसी जाम में फंसी एक ऐंबुलेंस में वह मासूम अपनी अंतिम सांस लेने पर मजबूर हो गया। वहीं मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि जाम कि सूचना मिलने के बाद अगर पुलिस त्वरित कार्रवाई करती तो मासूम की जिंदगी बच जाती।